खाते में जीरो बैलेंस होने पर भी Bank Overdraft Facility से पैसों की जरूरत को करें पूरा!

खाते में जीरो बैलेंस होने पर भी Bank Overdraft Facility से पैसों की जरूरत को करें पूरा!

अचानक आने वाली किसी भी तरह की आर्थिक इमरजेंसी के लिए कई बार बैंक अकाउंट में थोड़े पैसे या जीरो बैलेंस ही होता है जिससे इमरजेंसी में आर्थिक संकट से निपटना मुश्किल हो जाता है। 

हालांकि बैंकों द्वारा जीरो बैलेंस होने पर भी एक सुविधा प्रदान की जाती है जिसे Bank Overdraft Facility कहा जाता है जिससे आप अपने आर्थिक संकट को टाल सकते हैं। ‌

क्या है बैंकों द्वारा प्रदान की जाने वाली Bank Overdraft Facility?

दरअसल कई लोग अपने बैंक खाता को काफी अच्छी तरह ऑपरेट करते हैं और ऐसे में  बैंक अपने अच्छे ग्राहकों को ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी की सुविधा देता है जिसमें अगर व्यक्ति पर अचानक से आर्थिक संकट आ गया है और उसके अकाउंट में पैसे नहीं है तो भी वह अपने आर्थिक संपर्क से निपटने के लिए अपने बैंक से संपर्क कर सकता है जिसके तहत बैंक अपनी ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के आधार पर उसे ₹10000 तक का उधार देता है।

Bank Overdraft Facility बैंक द्वारा दिया गया एक तरह से आप उधर ही समझे। हालांकि ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी और लोन में एक बहुत बड़ा अंतर होता है। कई लोगों का मानना है कि बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी और लोन एक तरह से ही काम करते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। 

जब आप अकाउंट खुलवाना चाहते हैं तो आपको अपने बैंक से यह सुनिश्चित करना होगा कि Overdraft Facility उपलब्ध है या नहीं क्योंकि अगर बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी देता होगा तो तभी आप संकट के समय में अपने लिए लगभग ₹10000 तक की निकासी जीरो बैलेंस होने पर भी कर सकेंगे।

कैसे कर सकते हैं बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के लिए अप्लाई? 

अगर आप किसी आर्थिक संकट में फंस गए हैं और आपका बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी प्रदान करता है तो आप अपने बैंक के वेबसाइट पर जाकर या नेट बैंकिंग के थ्रू ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के लिए अप्लाई कर सकते हैं जिसके बाद आप एटीएम से ही अपने लिए लगभग ₹10000 तक की ओवरड्राफ्ट कीमत को निकाल सकते हैं। 

हालांकि ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी में ग्राहक को कितनी राशि का उधार दिया जाना चाहिए, यह सिर्फ बैंक द्वारा ही तय किया जाता है। 

लोन और बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी में है बड़ा अंतर! 

कई लोगों को ऐसा लगता है कि लोन और बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी में एक समान ब्याज दर ही चुकानी होती है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है जबकि अगर आप बैंक से लोन लेते हैं तो वहां पर महीने के हिसाब से ब्याज दर का हिसाब लगाया जाता है जबकि Bank Overdraft Facility में प्रतिदिन के हिसाब से ब्याज लगाया जाता है यानी की बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी में ब्याज ज्यादा चुकाना पड़ता है जो की एक बड़ी परेशानी हो सकती है।

वहीं जनधन अकाउंट बनाने वाले ग्राहकों को भी बैंक ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी दी जाती है जिसमें बैंक की ओर से  ओवरड्राफ्ट राशि को तय किया जाता है जिसके बाद वह राशि ग्राहकों के खाते में ट्रांसफर कर दी जाती है और उस पर लगने वाला ब्याज भी बैंक द्वारा ही तय किया जाता है। 

You may also like:

LIC की स्कीम के साथ अपने रिटायरमेंट को कर सुरक्षित, पाएं तगड़ा रिटर्न!
Hot Stocks: यह तीन स्टॉक बना सकते हैं आपको मालामाल जाने क्या है टारगेट प्राइस।
सिर्फ 436 सालाना की कीमत से अपने परिवार का जीवन करें सुरक्षित, प्रधानमंत्री की यह योजना है काफी कारग...
TCS के ऑफ साइट कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर वेतन में हो सकती हैं 7 से 8% की बढ़ोतरी जाने क्या है न्यू...
ये बैंक दे रहा है FD पर 9% से अधिक का ब्याज क्या आपका खाता है इस बैंक में?
गोल्ड लोन और पर्सनल लोन में से कौन-सा है आपके लिए बचत का सौदा?
Investment Tips - वित वर्ष 2024-25 में इस तरह करें निवेश, कुछ टिप्स अपना कर बताएं अपना पैसा!
क्या आपने निवेश किया है SBI की 7.60% ब्याज वाली स्कीम में!
गर्मियों के मौसम में शुरू करेंगे कम लागत का तगड़ा मुनाफे वाला बिजनेस!
एक्सिस बैंक ने अपने ग्राहकों को दी बड़ी खुशखबरी, अब फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलेगा 7% से ज्यादा तक का ब्य...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top