Income Tax Cash Policy – कैश के द्वारा होता है हर पेमेंट का भुगतान तो हो जाइए सतर्क!

income-tax-cash-policy

अगर इतना कैश पेमेंट करते हैं तो इनकम टैक्स को देना होगा जवाब! 

डिजिटल पेमेंट सोर्स पिछले कई वर्षों में इतनी तेजी से काम करने लगे कि सब्जी मंडी, चाय के स्टॉल और खाने पीने के ठेलों पर भी डिजिटल पेमेंट एप का क्यूआर कोड आपको देखने को मिल ही जाएगा लेकिन क्या आपको पता है कि इतना डिजिटल पेमेंट का क्रेज होने के बावजूद भी कई लोग अब तक किसी भी तरह की पेमेंट का भुगतान करने के लिए कैश को ही एक मात्र ऑप्शन मानते हैं।

छोटी से छोटी पेमेंट को करने के लिए कैश का उपयोग करना सही माना जा सकता है लेकिन कुछ बड़ी पेमेंट को भी अगर आप कैश के द्वारा ही भुगतान करते हैं तो ऐसे में आप इनकम टैक्स की नजर में आ सकते हैं। नीचे दिए गए कुछ कारणों से आपको इनकम टैक्स को कैश पेमेंट करने पर जवाब देना होगा

बैंक में कैश डिपाजिट करना

Income Tax Cash Policy के तहत आप सिर्फ 1 लाख से कम ही कैश डिपॉजिट पर इनकम टैक्स की छूट प्राप्त कर सकते हैं लेकिन अगर आप इससे ज्यादा कैश पेमेंट का भुगतान कैश डिपॉजिट करने के लिए करते हैं तो आपको इनकम टैक्स को इसके सोर्स का पता देना होगा। 

income-tax

डिजिटल पेमेंट का चलन बढ़ने के बाद भी लोग ज्यादा से ज्यादा कैश में पेमेंट करने की सुविधा को ही अभी तक इस्तेमाल मिल रहे हैं लेकिन हर पेमेंट को कैश के द्वारा भुगतान करना भी आपके लिए नुकसान दे हो सकता है।

हर पेमेंट को कैश के द्वारा भुगतान करने पर आप इनकम टैक्स नजर में आ सकते हैं इसलिए जानते हैं कौन सी कैश पेमेंट पर आप इनकम टैक्स की निगरानी में आ जाते हैं!

फिक्स्ड डिपॉजिट में कैश जमा करना

अगर आप बैंक की किसी फिक्स डिपॉजिट में कैश के द्वारा फिक्स डिपॉजिट में निवेश कर रहे हैं तो आपको इनकम टैक्स को अपनी इनकम सोर्स का जवाब देना होगा। हालांकि एक सीमित कैश डिपॉजिट लिमिट तक आप फिक्स डिपॉजिट में कैश जमा कर सकते हैं लेकिन लिमिट क्रॉस होने के बाद आपको टैक्स लगेगा।

कैश भुगतान करके प्रॉपर्टी खरीदना

मान लीजिए अगर आपने 40 लाख रुपए की प्रॉपर्टी खरीदी है और इसका भुगतान अपने 40 लाख रुपए नगद राशि में किया है तो इनकम टैक्स को आपको इस कैश सोर्स से जुड़ी सभी जानकारी देनी होगी। वही  आपका प्रॉपर्टी रजिस्ट्रार इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को इसकी जानकारी दे ही देगा जिससे आपके पास यह नोटिस आ सकता है।

कैश में क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान करना

अगर आपने ₹100000 से अधिक की लिमिट पर क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान नकद के रूप में किया है तो ऐसे में आपको इनकम टैक्स का नोटिस आ सकता है जिसमें आपको इनकम टैक्स वालों को इस इनकम सोर्स से जुड़ी सभी जानकारी को साझा करना होगा।

म्युचुअल फंड,बॉन्ड और शेयर खरीदने के लिए नकद में भुगतान

अगर आप म्युचुअल फंड, बॉन्ड और शेयर में निवेश करते हैं लेकिन इसकी सभी पेमेंट आप नगद के रूप में कर रहे हैं तो इसकी जानकारी भी आपको इनकम टैक्स को देनी होगी।

You may also like:

SIP Meaning in Hindi | जानिये SIP की सारी जानकारी हिंदी मे
खाते में जीरो बैलेंस होने पर भी Bank Overdraft Facility से पैसों की जरूरत को करें पूरा!
What is Mutual Fund in Hindi
Investment Tips - वित वर्ष 2024-25 में इस तरह करें निवेश, कुछ टिप्स अपना कर बताएं अपना पैसा!
Mutual Fund SIP में निवेश करने से पहले ध्यान दीजिए इन 4 बातों पर, मुनाफा होगा ज्यादा!
पैसिव इनकम से बैठे बैठे कैसे करे कमाई
फेसबुक फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ने टेस्ला के एलन मस्क को पछाड़ा, ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स की लिस्ट मे...
बिना ATM जाए घर बैठे जाने अपने बैंक अकाउंट का बैलेंस
गर्मियों के मौसम में शुरू करें यह छोटा बिजनेस और कमाए लाखों का मुनाफा!
इन 3 कंपनियों के शेयर्स में पैसे करें निवेश एक्सपर्ट ने कहा 1 साल में हो सकता है तगड़ा मुनाफा टाटा स...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top